दुल्हन नहीं दोस्त चाहिए

पुरुष अपनी पत्नी को दोस्त का दर्जा देने को तैयार ही नहीं है। वह मानता है पत्नी अलग होती है, दोस्त अलग और प्रेमिका अलग।

- संजय कुंदन

शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

बधाई ... शुभ कामनाएं


इस शुभ अवसर पर हमारे परिवार से चि. रामकृष्ण और भारती तथा दोनों परिवारों को बहुत-बहुत बधाई और वर-वधू को आजीवन सुखमय दांपत्य एवं मातृत्व-पितृत्व की अनंत कामनाएँ.

विष्णु खरे परिवार, मुंबई

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें