दुल्हन नहीं दोस्त चाहिए

पुरुष अपनी पत्नी को दोस्त का दर्जा देने को तैयार ही नहीं है। वह मानता है पत्नी अलग होती है, दोस्त अलग और प्रेमिका अलग।

- संजय कुंदन

बुधवार, 6 अप्रैल 2011

जीवन 'भारती'

भारती तेरे लिए

तुम आई हो
बन के
जीवन
'भारती'.

बहार साथ में
तुम
लाई हो
'भारती'.

दुःख जीवन के
हरने
तुम आई हो
'भारती'.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें