दुल्हन नहीं दोस्त चाहिए

पुरुष अपनी पत्नी को दोस्त का दर्जा देने को तैयार ही नहीं है। वह मानता है पत्नी अलग होती है, दोस्त अलग और प्रेमिका अलग।

- संजय कुंदन

मंगलवार, 30 दिसंबर 2008

दोस्त बनाओ, दुनिया बनाओ

दोस्ती ता -उम्र बरकरार रहे
या खुदा जब तक ये संसार रहे


तृष्णा शाह तंसरी
( रामकृष्ण डोंगरे )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें